Auxilary 9 Parts of Flywheel | Vibration Damper

Auxilary Parts of Flywheel

Vibration Damper
Crank case
Oil Sump
Oil Pump
Timing Gear
Chain Tensioner
Chain Sprocket
Clutch
Coupling

Vibration Damper

Vibration Damper

Vibration Damper का प्रयोग crank शाफ्ट की Vibration को Damp Down करने यानी crank शाफ्ट की Vibration को कम करने के लिए किया जाता है । Vibration Damper एक छोटा पहिया या Flywheel होता है जो crank शाफ्ट के अगले भाग पर लगा रहता है । जब crank शाफ्ट की गति में परिवर्तन होता है तो उसमें torsional vibration उत्पन्न होते हैं । Vibration Damper इन्हीं torsional vibration को कम करने का कार्य करता है।

Vibration Damper मुख्यतः दो प्रकार के होते हैं :

Mechanical Vibration Damper
Hydraulic Vibration Damper

Mechanical Vibration Damper

Rubber Floating Type Vibration Damper

इसके दो भाग होते है, पहला छोटा inertia ring या Damper Flywheel एवं दूसरा पुल्ली । ये दोनों भाग एक रबर इन्सर्ट के द्वारा आपस में जुड़े होते हैं। जब crank शाफ्ट की गति कम या अधिक होती है तो Vibration Damper, पुल्ली एवं crank शाफ्ट की गति को सामान्य रखता है एवं torsional vibration को कम करता है ।

Clutch and Rubber bush Type Vibration Damper

इसमें damper व पुल्ली के बीच दो friction प्लेंटें लगी रहती हैं । damper व पुल्ली के बीच friction को कम करने के लिए spring व plate फिक्स रहती हैं।

Hydraulic Vibration Damper

इसमें एक खोखले Flywheel के अंदर सिलिकॉन फ्लूइड भरा रहता है।

Crank case

यह सिलिंडर ब्लॉक का निचला भाग होता है। Crank case के अंदर ही crank शाफ्ट होती है । Crank case के निचले भाग पर oil sump लगा रहता है । Crank case एवं Oil Sump के बीच ऑइल sump गैस्केट लगा रहता है ।

Oil Sump

इसमें लुब्रिकेटिंग ऑइल भरा रहता है, यह मुख्यतः माइल्ड स्टील एवं एल्युमिनियम एलाय की शीट का बना होता है । इसके निचले भाग में एक ड्रेन प्लग लगा होता है जिसके द्वारा इंजन ऑइल को ड्रेन किया जाता है ।

Oil Pump

इंजन के सभी भागों तक लुब्रिकेटिंग ऑइल को पहुंचाने के लिए ऑइल पम्प का प्रयोग किया जाता है । ऑइल पम्प कैम शाफ्ट के द्वारा संचालित होता है ।

Timing Gear

यह कैम शाफ्ट के अगले भाग पर स्थित होता है । इसे crank शाफ्ट के द्वारा ड्राइव मिलती है । Timing Gear की साइज़ crank शाफ्ट gear से दुगनी होती है, एवं स्पीड आधी होती है। Timing Gear के द्वारा ही कैम शाफ्ट को घुमाया जाता है जिससे वाल्व खुलते व बंद होते हैं ।

Chain Tensioner

जिन इंजनों में कैम शाफ्ट को चैन द्वारा drive दी जाती है, उनमें कुछ समय के बाद चैन ढीली हो जाती है। इसे ढीला होने से रोकने के लिए Chain Tensioner का प्रयोग किया जाता है । Chain Tensioner के प्रयोग से चैन लचक नहीं मारती, चैन की आवाज कम होती है और gear भी कम घिसते हैं। Chain Tensioner कई प्रकार के होते हैं जैसे – एसेंट्रिक टाइप, लोडेड टाइप एवं हाइड्रोलिक टाइप आदि।

Chain Sprocket

Chain Sprocket

Chain drive के दो महत्वपूर्ण अंग होते है, ड्रिवेन व्हील एवं ड्राईवर व्हील । यह दोनों आपस में चैन द्वारा जुड़े रहते हैं, यह चैन अनेक link से मिलकर बनी होती है जिन्हें आपस में hinge किया जाता है । यह चैन इन पहियों पर बने दांतों में फिट रहती है, इन दाँतेदार पहियों को ही Chain Sprocket कहा जाता है ।

Clutch

Clutch

Clutch इंजन एवं ट्रांसमिशन सिस्टम के बीच का भाग होता है। यह ड्राईवर शाफ्ट एवं ड्रिवन शाफ्ट इंगेज एवं डिसएंगेज करने का कार्य करता है । Clutch का प्रयोग सामान्यतः Flywheel एवं गेयर ट्रेन के मध्य किया जाता है । इंगेज करके इंजन की पावर को ट्रांसमिशन सिस्टम तक पहुंचाया जाता है। Clutch को डिसएंगेज करके इंजन को बंद किए बिना ही पावर को ट्रांसमिशन सिस्टम तक पहुँचने से रोका जाता है।

Coupling

Coupling

दो शाफ़्टों को जोड़ने के लिए Coupling का प्रयोग किया जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *