Differential systems are 1 very important discovery in the growth of automobile industries.

Differential

Differential एक Mechanical device है जो गियर को नियोजित करता है, जो तीन शाफ्ट के माध्यम से Torque and Rotation rules को प्रसारित करने में सक्षम है । यह संबन्धित पहियों की ओर मुड़ते समय शक्ति को स्थानान्तरित करता है।
डिफरेंशियल सिस्टम ऑटोमोबाइल Industries की वृद्धि में एक बहुत महत्वपूर्ण खोज है ।

Differential

Differential का महत्व

Engine Power Produce करता है और ये Power , Propeller Shaft कि मदद से rear wheels में आती है , rear में दो wheels (left और right wheels) होते हैं और ये दोनों wheels rear axel से जुड़े रहते हैं और Automobile डिफरेंशियल भी rear axel पर ही लगा होता है।
डिफरेंशियल vehicle turning में rear wheels को अलग- अलग गति पर rotate कराने में बहुत बड़ा role निभाता है । और जैसा कि हम सभी जानते है कि, किसी भी Vehicles कि turning बिना Slipping के तभी संभव है जब Vehicle के दोनों rear wheels अलग- अलग गति पर rotate करे , अगर ऐसा नहीं होता है तब हमारी vehicle Turning में Slipping होने की संभावना बहुत ज्यादा होती है।

जब भी किसी automobile कि Driving Straight होती है तब डिफरेंशियल दोनों rear wheels को एक समान गति पर rotate होने कि अनुमति देता है।

इसके अलावा जब भी किसी automobile के दोनों rear wheels Turn लेते हैं , तब ये डिफरेंशियल दोनों rear wheels को अलग- अलग speed पर rotate करता है।
Differential कि मदद से हम automobile के rear wheels speed को बदल भी सकते हैं और समान भी रख सकते हैं , यह निर्भर करता है कि हमारी Driving किस प्रकार की है। यह डिफरेंशियल दोनों प्रकार कि Driving (Straight Driving या Turning driving) पर काम करता है।

>Clutch

>spring

Differential के भाग

Wheels , Drive शाफ्ट , Solid शाफ्ट , Ring गियर , Pinion गियर , Spider गियर , डिफरेंशियल Cage , Side गियर ,

डिफरेंशियल working process में wheels को Engine से Drive शाफ्ट कि मदद से Power प्राप्त होती है और फिर ये Power wheels को rotate कराने में मदद करती है।

जब भी wheels, Engine से power प्राप्त करते हैं तब automobile में लगे Differential इन wheels को अलग- अलग RPM पर Turn करने में मदद करते हैं।

जब भी Vehicle Turn लेता है तो उसमें लगे दो rear wheels में से , एक wheel दूसरे wheel की तुलना में ज्यादा distance travel करता है ।
अर्थात जो wheel ज्यादा distance travel करता है वो ज्यादा speed पर भी घूमता है । दोनों rear wheels एक Solid शाफ्ट से जुड़े रहते हैं। और जब Turning होती है तब Slipping Condition आती है, ऐसे में Solid शाफ्ट पर लगा डिफरेंशियल system अपना कार्य करता है दोनों wheels को अलग- अलग RPM पर rotate कराके और Turning के दौरान Vehicle को Slipping Condition से बचाता है ।

Differential में गियर कैसे कार्य करते हैं

इसमें Engine से Power को Pinion गियर के माध्यम से Ring गियर तक पहुंचाते है ।

Differential में Spider gear एक बहुत महत्वपूर्ण रोल निभाता है । इसमें Ring गियर , Spider गियर से जुड़ा रहता हैं और Spider गियर दो तरह के rotations को निभाता है।

Spider गियर एक Rotation , Ring गियर के साथ में करता है और दूसरा अपनी ही axis पर rotate होता है। यह Spider गियर, दो side गियर से meshed होते हैं , ऐसे में जो power Engine से flow होती है वो Pinion से दोनों left और right wheels में पहुंचती है।

डिफरेंशियल के अलग- अलग Cases

1st Case

जब Vehicle Straight move करता है इस Case में Spider गियर , Ring गियर के साथ में rotate करता है। पर यह Spider गियर अपनी ही axis पर rotate नहीं करता है।
इसके बाद यह Spider गियर धक्का लगायेगा और साइड गियर को मोड़ देगा। इसके बाद यह दोनों gear , Spider गियर और साइड गियर एक समान Speed से Turn करने लगते हैं।
इस Case में Spider- side gear मिलकर एक Solid unit assembly तैयार करते हैं और यह एक single Solid unit कि तरह भी move करते हैं।

2nd Case
इस Case में हम समझेंगे कि Vehicle, गियर कि मदद से right Turn कैसे लेता है ।
इसमें Spider गियर एक महत्वपूर्ण रोल निभाता है। Spider गियर , Ring गियर के साथ- साथ अपनी भी axis पर rotate करता है। जिससे Spider गियर एक Combined rotation बनाता है
और इस Combined rotation का effect side गियर पर पड़ता है । इसमें सही तरह से meshed side गियर कि Peripheral Velocity, Spider गियर कि Peripheral Velocity के समान होती है ।

जब Spider गियर Spinning और साथ ही साथ rotate भी कर रहा हो तब Spider गियर कि left side कि Peripheral Velocity, Spining और rotational Velocity के जोड़ के बराबर होती है ।
अर्थात जब भी हम Spining और rotational Velocity को जोड़ देंगे तब हमको Spider गियर के left side कि Peripheral Velocity मिल जायेगी।
और जब हम Spining और rotational Velocity को घटा देंगे तब हमको Spider गियर कि right side कि Peripheral Velocity मिलेगी । और इसमें right side के गियर कि तुलना में left side के गियर कि Speed ज्यादा होती है ।
इसी तरह डिफरेंशियल Turn कराने में manage करता है left और right wheels को अलग- अलग Speeds पर ।

3rd Case
इसमें Spider गियर विपरीत दिशा में Spin करता है।
Heavy Load Vehicles, डिफरेंशियल system में एक और Spider गियर को जोड़ देते हैं । इससे गियर के डिफरेंशियल में एक बहुत अच्छा arrangement मिलता हैं ।

डिफरेंशियल का उपयोग

डिफरेंशियल Pinion Ring गियर assembly में speed कम करने का काम भी करता है। जिससे ज्यादा Torque मिलता है।
डिफरेंशियल का बहुत ज्यादा उपयोग Cars में किया जाता है।
डिफरेंशियल से हमको Vehicle की अच्छी Efficiency मिलती है क्योंकि इस system में Energy का Loss कम होता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *