Coolent | Engine has 1 safety liquid

इंजन में Coolent की बात की जाए तो दो शब्द सामने आते हैं (1) Coolent (2) Anti Freeze

Coolent

Coolent

Cooling system में सर्कुलेट होने वाला लिक्विड कूलेंट कहलाता है ।

Anti Freeze

यह एक केमिकल है जिसे पानी में मिलाकर कूलेंट के रूप में प्रयोग किया जाता है ।
Anti Freeze = डिसिटल वॉटर + अल्कोहल or डिसिटल वॉटर + ग्लाइकोल

Anti Freeze के कार्य

Anti Freeze इंजन के अंदर coolent को ठंड के समय freeze होने से रोकता है । 50% पानी + 50%Anti Freeze का मिश्रण लगभग -37॰C पर जमता है और लगभग 250॰C से 300॰C पर उबलता है । Anti Freeze पानी के boilling point को भी बढ़ा देता है । Anti Freeze इंजन पार्ट्स पर जंग लगने एवं उनकी क्षरण को रोकता है । Anti Freeze ऊष्मा का अच्छा चालक होता है जिससे यह इंजन की heat को जल्दी absorb कर लेता है एवं उसे जल्दी release भी कर देता है ।

Heat in Engine

Combusion of Fuel = Heat Energy
35% to 40% of Heat Energy = Mechanical Work
60% to 65% of Heat Energy = Heat(Temperature)
1/2 of Heat = Goes out with Exhaust Gasess
1/2 of Heat = Remains in Engine
इस heat के कारण इंजन के तापमान में वृद्धि होती है । इंजन के तापमान में वृद्धि के कारण इंजन के पार्ट्स पिघल सकते हैं । इंजन के पार्ट्स गर्म होकर एक – दूसरे से चिपक सकते हैं । इंजन के पार्ट्स seize हो सकते हैं । इसलिए यह आवश्यक कि इस अतिरिक्त heat को इंजन से बाहर निकाला जाए, इंजन में यह कार्य water cooling system में कूलेंट के द्वारा किया जाता है।

Coolent के प्रकार

IAT : Inorganic Additive Technology
OAT : Organic Acid Technology
HOAT : Hybrid Organic Acid Technology
Hybrid coolent = IAT + OAT
Concentrated कूलेंट : इनका प्रयोग करने से पहले इनमें निर्देशानुसार पानी मिलाया जाता है ।
Ready to use कूलेंट : इनको सीधे ही प्रयोग किया जाता है ।

Coolent

Coolent का रख-रखाव

कूलेंट का level जाँचे ।
कूलेंट निर्माता के instructions पढ़े ।
समय – समय पर कूलेंट की स्थिती चेक करें ।

Coolent भरते समय सावधानियाँ

Coolent

अलग – अलग रंगों या प्रकार के कूलेंट को ना मिलाए ।
Anti Freeze व पानी के सही अनुपात का ध्यान रखें ।
नया कूलेंट भरने से पहले पुराने कूलेंट को पूरी तरह निकाल दें ।
पुराना कूलेंट निकालने से पहले इंजन को ठंडा होने दें ।
Coolent का प्रयोग करते समय उस पर दिए गए निर्देशों को अच्छी तरह पढ़ लें ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *