What is Computer, now we know in Hindi?

COMPUTER


आज का दौर कम्प्यूटर का है | जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में कम्प्यूटर का समावेश है | बड़े पैमाने पे गड़ना करने वाले प्रोग्रामेबल इलेक्ट्रानिक संयंत्र को संगणक (COMPUTER) कहते हैं | जो इनपुट उपकरणों की सहायता से आँकड़ों को स्वीकार करता है, उन्हें प्रोसेस करता है और उन आँकड़ों को आउटपुट उपकरणों की मदद से सूचना के रूप में प्रदान करता है |

COMPUTER
personal computer system

कमांड मे विभिन्न प्रकार के डेटा शामिल होते हैं | जैसे – आँकड़े,संख्या ,वर्णमाला आदि डेटाओं के अनुसार ही कम्प्यूटर परिणाम देता है | अर्थात कम्प्यूटर GIGO (Garbage in Garbage out) नियम पर कार्य करता है |


कम्प्यूटर का पूरा नाम (Computer Full Form)


कम्प्यूटर का पूरा नाम भी चर्चित रहता है | जिसकी लोगों और संस्थाओं ने अपने अनुभवों के आधार पे अलग -अलग व्याख्या की है | सबसे लोकप्रिय और महत्वपूर्ण निम्न है –
C – Commonly
O – Operating
M – Machine
P – Particularly
U – Used in
T – Technology
E – Education and
R – Research
Commonly Operating Machine Particularly Used in Technology Education and Research.


कम्प्यूटर के प्रकार (Types of Computer)

कम्प्यूटर को तीन आधारों पे वर्गीकृत किया गया है |
1.कार्यप्रणाली के आधार पे( Based on Mechanism ) – Analog, Digital, Hybrid.
2.उद्देश्यों के आधार पे( Based on Purpose) – General Purpose, Special Purpose.
3.आकार के आधार पे(Based on Size ) – Micro, Mini, Mainframe, Super.

कम्प्यूटर के कार्य (Functions of Computer)

॰ Collection and Input.
॰ Storage.
॰ Processing.
॰ Output or Retrieval.
etc.


कम्प्यूटर की इकाइयाँ

कम्प्यूटर की मुख्य चार इकाइयाँ होती हैं |
1. Input Unit – Keyboard, Mouse, Joy stick, Light pen, Track Ball, Scanner, Graphic Tablet, Microphone, Magnetic Ink Card Reader, Optical Character Reader, Bar Code Reader, Optical Mark Reader.
2. Central Processing Unit (CPU).
3. External Memory Unit.
4. Output Unit – Monitor, Printer, Headphones, Computer Speakers, Projector, GPS, Sound Card, Video Card, Braille Reader, Speech Generating Device.


Input Unit से कमांड दिया जाता है , सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट द्वारा एक्सटर्नल प्रोसेसिंग यूनिट के सहायता से डेटा को संसाधित कर अंत में आउटपुट यूनिट द्वारा उन्हें डेटा या इन्फॉर्मेशन के रूप में निर्गमित किया जाता है | सी॰ पी॰ यू॰ को माइक्रो प्रोसेसर भी कहा जाता है |


कम्प्यूटर सिस्टम (Computer Systems)


कम्प्यूटर दो पध्दतियों से कार्य करता है- 1. हार्डवेयर, 2. सॉफ्टवेयर |
1. हार्डवेयर (Hardware) – कम्प्यूटर और उससे जुड़े सभी युक्तियाँ और उपकरणों को हार्डवेयर कहा जाता है |
2. सॉफ्टवेयर (Software) – कम्प्यूटर के संचालन के लिए बनाये गये प्रोग्रामों को सॉफ्टवेयर कहा जाता है | ये निम्न हैं

॰ Operating system.
॰ Language processor.
॰ Application programme.
॰ Subroutine programme.
॰ Utility programme.


कम्प्यूटर की भाषाएँ

कम्प्यूटर की भाषा को निम्न तीन वर्गों में बांटा जा सकता है |
Machine code language – इस भाषा में प्रत्येक आदेश के दो कोड होते हैं, Operation code तथा Location code . इन दोनों को 0 और 1 के क्रम में व्यवस्थित व्यक्त करते हैं |
Assembly language – इसमें याद रखने लायक कोड प्रयोग किया गया , जिसे Mnenomic code कहा गया | जैसे ADDITION के लिये ADD, SUBSTRACTION के लिये SUB और JUMP के लिये JMP लिखा गया |
High level languages – उच्चस्तरीय भाषाओं के विकास श्रेय IBM कंपनी को जाता है | FORTRAN नामक पहली उच्चस्तरीय भाषा का विकास इस कंपनी ने किया | कुछ उच्चस्तरीय भाषाएँ निम्न हैं |
FORTRAN, COBOL, BASIC, ALGOL, PASCAL, COMAL, LOGO, PROLOG, FORTH, PILOT, C, C++, LISP, UNIX, LINUX, ADA, PL -1, SNOBOL etc .


कम्प्यूटर वायरस


कम्प्यूटर वायरस एक प्रकार का electronic code है, जो कम्प्यूटर मे निहित सूचनाओं को समाप्त कर देता है | इस कोड से गलत सुचनाए मिल सकती है और डेटा नष्ट हो सकता है | यदि कम्प्यूटर किसी नेटवर्क परिपथ से जुड़ा है तो इलेक्ट्रोनिक रूप से जुड़े होने के कारण यह पूरे नेटवर्क को प्रभावित करता है | सूचनाओं के आदान प्रदान में भी वायरस के फैलाने का खतरा रहता है |इनकी रोकथाम के लिए एंटिवाइरस विकसित किए गये हैं |


मुख्य कम्प्यूटर वायरस – माइकेलएंजेलो, डार्क एवेंजर, किलो, फिलिप, मैकमग, स्कोर्स, कैसकेड, जेरूसलम ,डेटा क्राइम , कोलंबस क्राइम , इंटरनेट वाइरस , पैचकाम , माई ड़ूम, प्वाइजन आईवी , सी ब्रेन , चेज़ मुंगू और देसी ।


कम्प्यूटर नेटवर्किंग


यह कई कम्प्यूटरों को आपस में जोड़ने की तकनीकी है | ये दो प्रकार से की जाती है :
LAN (Local Area Networking) – इसमें एक जगह के सभी कम्प्यूटरों को एक साथ जोड़ा जाता है |
WAN (Wide Area Networking) – इसमें एक बड़े क्षेत्र में रखे सभी कम्प्यूटरों को एक साथ जोड़ा जाता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *